Loading...
You are here:  Home  >  2018  >  July  >  03
Latest

धरती के प्यास बुझागे रे सँगी….

By   /  July 3, 2018  /  Poetry  /  No Comments

धरती के प्यास बुझागे रे सँगी, परत के देखतो पानी। खाय बर दाना जगाले रे सँगी, चार दिन के जिनगानी।। रुख राही सबो हरिहर हरिहर, जीव: जंतु सबो खुशियागे। बूँद बूँद पानी गिरके सँगी, माटी म खुशबू छागे।। आकाश के गरजे बादर म, डोंगरी के नाचे बानी। धरती के प्यास बुझागे रे सँगी, परत के […]

Read More →
Latest

बरस जा बादर

By   /  July 3, 2018  /  Poetry  /  No Comments

बरस जा बादर, गिर जा पानी, देखत हावन । तरसत हावन, तोर दरस बर, कहाँ जावन । आथे बादर, लालच देके, तुरंत भगाथे । गिरही पानी, अब तो कहिके, आश जगाथे । सुक्खा हावय, खेत खार हा, कइसे बोवन । बइठे हावन, तोर अगोरा, सबझन रोवन । झमाझम अब, गिर जा पानी, हाथ जोरत हन […]

Read More →
Latest

योग करो

By   /  July 3, 2018  /  Poetry  /  No Comments

योग करो भई योग करो, सुबे शाम सब योग करो । मिल जुल के सब लोग करो, ताजा हवा के भोग करो । योग करो भई योग करो ।। जल्दी उठ के दंउड लगाओ, आगे पीछे हाथ घुमाओ । कसरत अऊ दंड बैठक लगाओ, शरीर ल निरोग बनाओ । प्राणायाम अऊ ध्यान करो । योग […]

Read More →
Latest

पावस के महिना आगे

By   /  July 3, 2018  /  Poetry  /  No Comments

पावस के महिना आगे आगे, आगे जी पावस के महिना आगे। झमा-झम होवे रे बरसा भुंइया के पियास बुझागे। खेती किसानी के बुता शुरू नांगर बईला हर फंदागे। बासी लेके जायेबर परही नवा बहुरिया ह लजाके। आगे, आगे जी पावस के महिना आगे।। तरिया, नदिया ह भरे लगिस घचवा डबरा ह टमटमागे। धुर्रा-माटी ह सपटगे […]

Read More →
Latest

आम आदमी और सरकारें

By   /  July 3, 2018  /  Editorial  /  No Comments

दिल्ली में जब से आम आदमी पार्टी की सरकार बनी है तब से एलजी से टकराव तथा अधिकारियों के हितों से टकराव की बात सामने आ रही है। अधिकारी कर्मचारी ईमानदार सरकार की कड़ाई से परेशान होंगे तो उनका विरोध समझ में आता है, मगर एलजी से टकराव कहीं न कहीं केन्द्र के इशारों के […]

Read More →

Hit Counter provided by Skylight