Loading...
You are here:  Home  >  2018  >  June  >  13
Latest

श्री गुरुजी के पुण्यतिथि पर स्वयंसेवकों ने किया फल वितरण

By   /  June 13, 2018  /  News  /  No Comments

9

सराईपाली। संघ के द्वितीय सरसंघचालक माधव सदाशिव राव गोलवलकर की पुण्यतिथि पर राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सेवकों के द्वारा स्थानीय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में जाकर मरीजों को फल का वितरण किया गया। पुण्यतिथि दिवस 5 जून को सभी स्वयंसेवक स्थानीय गुरुजी ध्यान केंद्र में एकत्रित होकर उनके छायाचित्र पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए तथा […]

Read More →
Latest

फसल बीमा हुआ सूखा भी पड़ा मगर बीमा राशि का नही मिल रहा है 3 गांव के किसानों को लाभ किसानों में आक्रोश आंदोलन की चेतावनी

By   /  June 13, 2018  /  News  /  No Comments

सराईपाली। भूकेल सोसायटी अंतर्गत एक बीमा कंपनी द्वारा ऋणी एवं अऋणी किसानों का बीमा हुआ था। कुल 17 गांवों में से 14 गांवो के किसानों को बीमा राशि दी जा रही है, जबकि सुखा प्रभावित रहे गांव पौसरा, जलकोट, बैगनडीह के किसानों को बीमा का लाभ नही मिल रहा है। ्जिससे कृषकों में भारी आक्रोश […]

Read More →
Latest

जमीन दलाल द्वारा सौदाकर जमीन न देने पर दी गई राशि के चेक के बाउंस होने पर दो लोगों को एक-एक वर्ष की सजा

By   /  June 13, 2018  /  News  /  No Comments

सराईपाली। जमीन दलाल जमीन दिलाने के लिए 6 लाख रूपया लेने के बाद नही लौटाने पर दिए गए चेक की राशि सहित एक वर्ष सजा न्यायालय द्वारा सुनाया गया है। कार्तिकराम नामक ग्राम गिरसा के ने स्थानीय न्यायालय परिवाद दायर कर आरोप लगाया था कि कार्तिकराम के खिरोद्र प्रधान साल्हेतराई से अच्छे संबंध थे। खिरोद्र […]

Read More →
Latest

तेंदूपत्ता संग्रहण लक्ष्य से पिछड़ गया सराईपाली वन विभाग

By   /  June 13, 2018  /  News  /  No Comments

सराईपाली। वन परिक्षेत्र के अंतर्गत तेंदूपत्ता का संग्रहण का काम पूर्णता की ओर है, विभाग की उदासीनता के चलते लक्ष्य से ज्यादा पत्ता आने की जगह इस बार 2 हजार मानक बोरा से पिछड़ गया है। मिली जानकारी के अनुसार इस वर्ष तेंदूपत्ता संग्रहण के लिए 12 हजार 100 मानक बोरा का लक्ष्य था, जिसमें […]

Read More →
Latest

महाभारत 2019 का प्रमोद पर्व

By   /  June 13, 2018  /  Editorial  /  No Comments

हस्तीनापुर के कौरव राजवंश के भाई बटवारे की कथा वस्तु पर रचित काव्य मूलत: जय काव्य नामक ग्रंथ में संकलित हुआ था जो जन श्रुतियों के स्फुट रूपों में प्रचलित था। जय काव्य ही कालांतर में आधुनिक महाकाव्य महाभारत से नामित होकर प्रसिद्ध हुआ जिसके मूल कवि व्यास माने गये। महाभारत उस प्रकार की रचना […]

Read More →

Hit Counter provided by Skylight