Loading...
You are here:  Home  >  Poetry  >  Current Article

पेड़ों को मत काटो

By   /   June 13, 2018  /   No Comments

एक एक पेड़ लगाओ, धरती को बचाओ ।
मिले ताजा फल फूल, पर्यावरण शुद्ध बनाओ ।
मत काटो तुम पेड़ को, पुत्र समान ही मानो ।
इनसे ही जीवन जुड़ा है, रिश्ता अपना जानो ।
सोचो क्या होगा अगर, पेड़ सभी कट जायेंगे।
कहां मिलेगी शुद्ध हवा, तड़प तड़प मर जायेंगे ।
फल फूल और औषधि तो, पेड़ों से ही मिलते हैं ।
रहते मन प्रसन्न सदा, बागों में दिल खिलते हैं ।
पंछी चहकते पेड़ों पर, घोसला बनाकर रहतें हैं।
फल फूल खाते सदा, धूप छाँव सब सहतें हैं ।
सबका जीवन इसी से हैं, फिर क्यों इसको काटते हो।
अपना उल्लू सीधा करने, लोगों को तुम बाँटते हो।
करो संकल्प जीवन में प्यारे, एक एक वृक्ष लगायेंगे ।
हरा भरा धरती रखेंगे, जीवन खुशहाल बनायेंगे ।

महेन्द्र देवांगन माटी, पंडरिया कवर्धा

    Print       Email
  • Published: 1 week ago on June 13, 2018
  • By:
  • Last Modified: June 13, 2018 @ 9:08 am
  • Filed Under: Poetry

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>

You might also like...

पानी-पूरवाही

Read More →

Hit Counter provided by Skylight