News View All →

ग्राम बाराडोली में श्यामा माता मंदिर प्राण प्रतिष्ठा

By   1 day ago

सराईपाली। ग्राम बाराडोली (बालसमुंद) में माँ श्यामा माता मंदिर का प्राण प्रतिष्ठा एवं मूर्ति स्थापना 13 मई को सम्पन्न हुआ। दिन अन्नपूर्णा पूजन, प्रधान देवता पूजन, महाअभिषेक, शीर्षकलश स्थापना, ध्वजारोहण, मूर्ति स्थापना, पूर्णाहूति एवं महाप्रसाद वितरण का वितरण किया गया। ज्ञात हो कि ग्राम बाराडोली के निवासी माँ श्यामा को अपनी इष्ट देवी मानते हुए […]

Read More →

अष्टप्रहरी एवं नामयज्ञ का आयोजन

By   1 day ago

सराईपाली। नगर के वार्ड क्रमांक 9 झिलमिला में अष्टप्रहरी नाम संकीर्तन महायज्ञ का आयोजन 18 से 20 मई तक रखा गया है। 18 मई से संध्या 5 बजे से अधिवास भव्य कलश यात्रा, 19 मई संध्या 4 बजे नाम उच्चारण, 20 मई दोपहर 12 बजे से छप्पनभोग एवं महाप्रसाद, संध्या 4 बजे से पूर्णाहूति, बैठकी, […]

Read More →

कागजों मे पूर्ण शौचालय गांव ओडीएफ घोषित लेकिन अब भी अधूरे शौचालय खूले मे शौच मजबूरी

32-1chandrahaas

By   1 day ago

(विनोद दास बसना) बसना(ग्रामीण)। ग्राम पंचायत कुरचुण्डी सरकारी रिकार्ड में ओडीएफ पंचायत घोषित हो चुका है। कागजी दस्तावेजों पर पंचायत में स्वीकृत समस्त शौचालय पूर्ण है। लेकिन हकीकत अलग है। प्रशासन को शौचालय पूर्ण होने का झूठी रिपोर्ट पेश की गई है। ग्राम पंचायत के आश्रित ग्राम में अभी तक शौचालय अपूर्ण है। आज भी […]

Read More →

दो दिवसीय अष्टप्रहरीनामयज्ञ का महासम्मेलन

30

By   1 day ago

बसना। ग्राम जड़ामुड़ा एवं सीतापुर मे आयोजित ग्रामवासियो के तत्वाधान में दो दिवसीय अष्टपहरी नामयज्ञ संकीर्तन का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य अतिथि के रुप मे नीलांचल सेवा समिति के संस्थापक एवं बसना नगर पंचायत अध्यक्ष सम्पत अग्रवाल शामिल होकर भगवान श्री चैतन्य महाप्रभु जी का पूजा-अर्चना कर आशीर्वाद प्राप्त किया। मुख्य अतिथि ने कहा […]

Read More →

नवजात शिशु को झाडिय़ों में फेंका, मानवता को शर्मसार करने वाली घटना की हो रही निंदा

36

By   1 day ago

 पिथौरा। विकासखंड अंतर्गत ग्राम बुन्देली के सुइनारा में झाडिय़ों के बीच नवजात कन्या के मिलने से ग्राम में हडक़ंप मच गई । घटना मातृ दिवस के रात की बताई जा रही है । झाडिय़ों में बच्ची के रोते विलखते की आवाज सुनकर खेल रहे बच्चे व राहगीरों ने पुलिस को खबर की और झाडिय़ों मे […]

Read More →

दलित परिवार को किया बहिस्कृत साथ देने वाले भी हुए बहिस्कृत मामला पहुंचा प्रशासन के पास क्या मिलेगा दलित को न्याय

22

By   2 days ago

पिथौरा नगर। पिथौरा ब्लाक के लक्ष्मीपुर गांव है जहां एक परिवार को समाज से बहिष्कृत कर दिया गया है, वो भी इसलिए क्योंकि परिवार दलित है, रसूखदारों ने अपना रंग तब दिखाना शुरु किया जब उस परिवार में शादी थी, परिवार में बेटे की शादी थी, जिसे लेकर मुखिया राजकुमार ने कार्ड भी छपवाया और […]

Read More →

कभी निर्मल जल के लिए प्रसिद्ध था लाखागढ़ तालाब अब गंदगी का पर्याय बना अस्तित्व बचाना हुआ कठिन

21

By   2 days ago

पिथौरा नगर। नगर से लगे ग्राम लखागढ़ एवं पिथौरा स्थित एकमात्र उपयोगी तालाब अवैध कब्जे व कचरे का गडढ़ा बनता जा रहा है। तालाब को संरक्षण अगर नही किया गया तो पानी की कमी दूर करने वाला साथ ही निस्तार में प्रमुख भूमिका निभाने वाला यह तालाब अपना अस्तित्व खो देगा। कभी पांच हजार लोगों […]

Read More →

आदिवासियों के साथ सौतेला व्यवहार आदिवासियों ने किया प्रदर्शन

35

By   3 days ago

पिथौरा। पत्थरगडी मामले में गिरफ्तार किए गए आदिवासी समाज के लोगों की रिहाई के लिए एक दिवसीय जिला स्तरीय धरना प्रदर्शन मंगलवार को थाना के सामने में किया। इसके बाद राज्यपाल के नाम से नायब तहसीलदार पीएल साहू को ज्ञापन सौंपा गया। आंदोलन को देखते हुए सुबह से ही थाना चौक बार चौक पर पुलिस […]

Read More →

Editorial View All →

मूर्तियों का मंडन खंडन

By   2 days ago

अर्वाचीन समय में भारत कितना बड़ा प्रभुत्वशाली धर्मनिरपेक्ष राष्ट्र क्यों न घोषित हो, उसकी नींव में लोकतंत्र जैसा सिद्धांत विरल है और परंपरागत आस्तिकता की भावना अधिक सघन है. आस्तिकता की भावना मन में निहित भक्ति का विस्तार है जिसका एक अनुबंग भाव श्रद्धा है. इस तरह देश श्रद्धालु जनता से बना है. भक्ति व […]

Read More →

यदि जीवन सार्थक करना है

By   2 days ago

विचारों पर सार्थक प्रयास हमें कहां से कहां तक ले चलता है। यदि हमारे विचार समाज एवं राष्ट्र को नई दिशा देने मे सफल होते है तो निश्चित ही हम उस लक्ष्य को प्राप्त करते जाते है। जिसे मानव का मानव समाज पर एक ऐसा देन जिसे सब कोई सहज स्वीकार करते जाते है। हमारे […]

Read More →

आओ एक दूसरे के प्रति अच्छी वाणी व भाषा का प्रयोग करे

By   2 weeks ago

गजानन्द राय सरस्वती पुत्र सराईपाली। वर्तमान समय मे मनुष्य की भाषा कितनी बदल चुकी है। पढ़े लिखे शिक्षित लोग भी बोलचाल व संवाद मे अपशब्द कहे बिना नही रह पाते। जब शिक्षित व्यक्तियों का यही हाला है तो अनपढ़ और अशिक्षित व्यक्तियों का क्या होगा। आखिर हमारा समाज नैतिकता के किस पतन की ओर जा […]

Read More →

वास्तव में देश में प्रजातंत्र खतरे में है?

By   2 weeks ago

अमृतलाल पटेल (जोगनीपाली) वास्तव में देश में इन दिनों प्रजातंत्र खतरे में है इसका कारण कोई और नहीं, न ही कोई बाहरी ताकत है। इसका कारण हम ही हैं इसका कारण इसकी दुहाई देने वाले लोग ही हैं। इसके पीछे हमारी नीचता है, हमारी स्वार्थपरता है, हमारी कुटीलता है, हमारी पदलोलुपता है, हम ही श्रेष्ट […]

Read More →

आओ एक दूसरे के प्रति अच्छी वाणी व भाषा का प्रयोग करे

By   2 weeks ago

गजानन्द राय सरस्वती पुत्र सराईपाली। वर्तमान समय मे मनुष्य की भाषा कितनी बदल चुकी है। पढ़े लिखे शिक्षित लोग भी बोलचाल व संवाद मे अपशब्द कहे बिना नही रह पाते। जब शिक्षित व्यक्तियों का यही हाला है तो अनपढ़ और अशिक्षित व्यक्तियों का क्या होगा। आखिर हमारा समाज नैतिकता के किस पतन की ओर जा […]

Read More →

बंद किसके हित मे

By   3 weeks ago

इस देश मे आए दिन नगर बंद प्रदेश बंद, देश बंद की घटना होते रहती है। जिससे निजी एवं सार्वजनिक सम्पती की बर्बादी निश्चित है। कहीं दुकान जला रहे है तो कहीं बस एवं कारों मे आग लगा दी जाती है। कौन करता है यह सब किसके नेतृत्व मे एवं कौन जिम्मेदार इन सब के […]

Read More →

धूप से बचना और लू बचने के लिए अपनाएं निम्न दिनचर्या

By   3 weeks ago

हम सभी धूप में घूमते हैं फिर कुछ लोगों की ही धूप में जाने के कारण अचानक मृत्यु क्यों हो जाती है। हमारे शरीर का तापमान हमेशा 37 डिग्री सेल्सियस होता है। इस तापमान पर ही हमारे शरीर के सभी अंग सही तरीके से काम कर पाते है। पसीने के रूप में पानी बाहर निकालकर […]

Read More →

बंद किसके हित मे

By   4 weeks ago

अमृत लाल पटेल जोगनीपाली इस देश मे आए दिन नगर बंद प्रदेश बंद, देश बंद की घटना होते रहती है। जिससे निजी एवं सार्वजनिक सम्पती की बर्बादी निश्चित है। कहीं दुकान जला रहे है तो कहीं बस एवं कारों मे आग लगा दी जाती है। कौन करता है यह सब किसके नेतृत्व मे एवं कौन […]

Read More →

Poetry View All →

जन्म दिन के बहाने

By   2 days ago

समय जिसे माना अपना क्षण क्षण पिघल पिघल टपकता तपते लौह बंूद सा घड़ी के चेहरे के बाहर अटूट हर पल अटूट बढ़ता जाता आगे बढ़ता ही गया सेकण्ड मिनट घंटा दिन राम सप्ताह मास और वर्ष बस बढ़ी तो एक संख्या भर आयु बढ़ी कि घटी पर सायास बिगड़ता रह गया सलोना चेहरा बचपन […]

Read More →

कागज के पन्ने

By   2 days ago

यह कागज के पन्ने नहीं, जीवन और ऊर्जा है। आगे बढऩे के लिए, कुछ करने के लिए, कागज के पन्ने। मैं संग्रह करता हूं, इन कागज के पन्नों से, जीवन के सुख-दु:ख का, समय की गति का। न जाने कब काम आ आये, भरी भीड़ में मेरा नाम आ जाये, ठीक उनकी तरह, जो आज […]

Read More →

बेटी हाइकु

By   2 weeks ago

1 भेद ना कर बेटी बेटा समान अपना मान । 2 बेटी पढ़ती विकास है गढ़ती आगे बढ़ती । 3 चुप रहती सब कुछ सहती सदा हंसती । 4 काम करती कभी नही थकती ख्याल रखती । 5 खुद पढ़ती भाई को भी पढ़ाती गाना सुनाती । महेन्द्र देवांगन माटी पंडरिया कवर्धा ————————

Read More →

सपनों का सूखा पत्ता

By   2 weeks ago

वह आदमी जो डर की वजह से कह नहीं पा रहा है कि वह डरा हुआ है शायद वह मरा हुआ है आ से आरज़ू है तेरे पास ए जा से जान है तेरे पास ए और दी से दीवारें है तेरे पास आजादी पूरी आज़ादी है तेरे पास । किसी निर्दोष कैदी के लिए […]

Read More →

ढोंगी बाबा

By   2 weeks ago

गाँव शहर मा घूमत हावय कतको बाबा जोगी । कइसे जानबे तँहीं बता कोन सहीं कोन ढोंगी बड़े बड़े गोटारन माला घेंच मा पहिने रहिथे । मोर से बढक़े कोनों नइहे अपन आप ला कहिथे । फँस जाथे ओकर जाल मा गाँव के कतको रोगी । कइसे जानबे तँही बता कोन सही कोन ढोंगी जगा […]

Read More →

दूर जाने के बाद भी

By   3 weeks ago

दूर जाने के बाद भी मेरे दिल के पास रहना तू याद तेरी हरदम आती है आँसू बनकर ना बहना तू ना बहाना कभी तू आँसू उस आँसू में मेरे जान है तेरी दिल से पूछना की मेरे हक का किया ईमान है आँखों से आँसू बहे कभी आँसू का मोल जाना है पानी रास्ता […]

Read More →

लें मशालें चल पड़े हैं

By   3 weeks ago

लोग मेरे गांव के बेटियाँ अब जीत लेंगी हर बाजी जिंदगी की पूछते हैं नर और पूछती हैं नारियां कब तक सहेगी अत्याचार बेटियां मेरे गाँव की लाल सूरज अब उगेगा छत्तीसगढ़ के गाँव में साथ साथ काम करेंगे बेटे और बेटियां सहभागिता की भावना जन जन में है जगाना बेटियों का गढ़ अब छत्तीसगढ़ […]

Read More →

आमा के चटनी

By   3 weeks ago

आमा के चटनी ह अब्बड़ मिठाथे दू कंऊरा भात ह जादा खवाथे कांचा कांचा आमा ल लोढहा म कुचरथे लसुन धनिया डार के मिरचा ल बुरकथे चटनी ल देख के लार ह चुचवाथे आमा के चटनी ह अब्बड़ मिठाथे बोरे बासी संग में चाट चाट के खाथे बासी ल खा के हिरदय ह जुड़ाथे खाथे […]

Read More →

Hit Counter provided by Skylight