News View All →

अमरकोट में लोक समाधान शिविर हजारों हितग्राहियों को मिला योजनाओं का लाभ

By   5 days ago

सराईपाली। विकासखंड के ग्राम अमरकोट में बुधवार को लोक समाधान शिविर का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि अमरकोट शिविर में विधायक रामलाल चौहान थे। इस अवसर पर उन्होंने हितग्राहियों को विभिन्न सामग्री एवं चेक वितरित किया तथा शासन की लोक कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी देने के साथ-साथ इसका अधिक से अधिक लाभ उठाने […]

Read More →

चिखली में दार्शनिक प्रवचन एवं मधुर संकीर्तन में उमड़ी भीड़

22

By   5 days ago

सारंगढ़। ग्राम चिखली में आयोजित प्रवचन कार्यक्रम में पहुंची वृन्दावन वासिनी श्रीश्वरी देवी श्रद्धालुओं को दार्शनिक प्रवचन एवं मधुर संकीर्तन के साथ प्रवचन की। उन्होने बताया कि गुरु या महापुरुष किसे कहते हैं ? केवल कान फु कवाकर गुरु बना लेना गलत है। इस विषय पर उन्होंने वेद पुराण में लिखे श्लोको का श्लोक क्रमांक […]

Read More →

फर्जी दस्तावेजों के कौशल में कौन है विकसित आरटीआई के दस्तावेजों में एक ही सेंटर के अलग अलग दस्तावेज

21

By   5 days ago

बसना ग्रामीण। नगर में छत्तीसगढ़ राज्य कौशल विकास प्राधिकरण योजनाओं को कागजों में संचालन करके लाखो रूपये डकारने में एनजीओ के साथ अधिकारियों की भी मिलीभगत से इंकार नही किया जा सकता है। योजना संचालन करने के पूर्व निर्धारित मापदण्ड पूर्ण नही होने के बाबजूद संबंधित विभागीय अधिकारी की दरियादिली से योजना बंटाधार हो रहा […]

Read More →

व्यवहार न्यायालय तो खोल दिया सुविधाओं को नही मिल पा रहा है न्याय विनोद दास

20

By   5 days ago

बसना ग्रामीण। नगर में व्यवहार न्यायालय का शुभारंभ तो कर दिया गया मगर वहां सुविधाओं का अभाव है। न यहां न्यायालय भवन बना न ही न्यायाधीश व कर्मचारी निवास न ही बंदी गृह की सुविधा है। इसको बनाने में सरकार भी रूचि नही दिखा रही है। तहसील मुख्यालय में 26 जनवरी 2013 को व्यवहार न्यायालय […]

Read More →

न नोटिस, न स्पष्टीकरण, जुर्म मालूम नही और कर दिया निलंबित हमारे देश में अब भी जीवित है तानाशाह

19

By   5 days ago

बसना ग्रामीण। निलंबित कर्मचारी को पता ही नही है कि उसकी खता क्या है अधिकारियों ने उसे सीधे सजा दे दी। मजे की बात है कि उच्चाधिकारी की नजर से निलंबन सजा की श्रेणी में नही आता है। यह मामला है बसना वन परिक्षेत्र कार्यालय का। उप वनक्षेत्रपाल राकेश मसीह निलंबन से पूर्व रामभाठा सर्किल […]

Read More →

परशुराम जयंती पर ब्राम्हणों की शोभायात्रा और महासम्मेलन

18

By   5 days ago

बागबाहरा। सर्व ब्राह्मण समाज ने बुधवार को परशुराम अवतरण दिवस बड़े ही धूमधाम एवं श्रद्धापूर्वक मनाया। इस अवसर पर मोटर सायकिल रैली, शोभायात्रा एवं भजन संध्या का आयोजन किया गया। शोभायात्रा में नगर सहित आसपास के विप्रबंधुओं ने भी उत्साहपूर्वक हिस्सा लिया, जुलूस का अलग-अलग स्थानों पर सामाजिक एवं राजनीतिक संगठनों ने स्वागत किया। भगवान […]

Read More →

झोपड़ी जली रोजगार बंद अब तो मुआवजा ही सहारा झोपड़ी जलने से मां बेटे झुलसे

25

By   7 days ago

पिथौरा। विकास खंड अंतर्गत ग्राम अमलीडीह में सडक़ किनारे स्थित झोपड़ी नुमा एक होटल में अचानक आग लग गई जिससे झोपड़ी में रखे सामान जलकर खाक हो गये । झोपड़ी में रह रहे माँ बेटे जिंदा जलने से बाल बाल बचे । राहगीरों की मदद से आग में झुलसे मां बेटे को 108 की मदद […]

Read More →

पीपल की छांव में सुना रमन के गोठ कौशल विकास प्रशिक्षण से बेरोजगार युवाओं में नई उम्मीद

17

By   7 days ago

पिथौरा नगर। मुख्यमंत्री डॉ रमनसिंह के रेडियो प्रसारण कार्यक्रम रमन के गोठ का पिथौरा पुरानी बस्ती में पीपल की छांव में सामूहिक रूप से श्रवण किया गया। जिसमे प्रमुख रूप से विधायक प्रतिनिधि मनमीत रिक्की छाबड़ा, एल्डरमैन मन्नूलाल ठाकुर सहित अन्य लोग उपस्थित थे। मुख्यमंत्री ने अपने 21 वीं कड़ी के प्रसारण में सर्व प्रथम […]

Read More →

Editorial View All →

नक्सली हाथी जैसे बाहरी आक्रमण

By   5 days ago

जनगण का संघर्ष कितना गहराता जा रहा है। बहुमुखी अपारदर्शी और अबूझ होता जा रहा है कि न समझ में आ रहा है और न ही नियंत्रण में। हम सब धीरे धीरे लाचार व विवश होकर फंसते और धंसते जा रहे हैं। स्थितियां इतनी जटिल और बीहड़ बन रही हैं कि हम उसकी चुनौती स्वीकार […]

Read More →

कलियुग में नाम संकीर्तन क्यों ?

By   5 days ago

बसंत और ग्रीष्म ऋतु के आगमन के साथ ही उडि़सा, छत्तीसगढ़ की मिली जुली संस्कृतियों से भरा फुलझर क्षेत्र में भक्ति और आध्यात्मिक चेतना जागृत करने का वातावरण बन जाता है। छत्तीस$गढ़ की भक्ति चेतना में रामायण, श्रीमद भागवत, कथा, ठाकुरदेव उत्सव आदि के साथ उत्कलीय गौड़ीय परपंरा में नामयज्ञों का आयोजन भक्ति रसामृत पान […]

Read More →

बफेलो, बफे लो

By   2 weeks ago

पिछले सप्ताह का एक दिन व्यंग्य विधा पर एक विश्व दिवस था। विश्व दिवस जैसा अंतर्राष्ट्रीय आयोजन व्यंग्य जैसी हाशिए पर विधा केन्द्रित हो तो विषय की महत्ता का पता चलता है। आज व्यंग्य सचमुच एक छोटा पर कारगार अचुक अस्त्र बन गया है। जिसका प्रयोग वैश्विक जटिल परिस्थितियों की प्रतिक्रिया में व्यक्तिगत और सामूहिक […]

Read More →

सोच समझकर कदम उठाये

By   2 weeks ago

आजकल लड़कियां जितनी उच्च शिक्षित होते जा रही है उतने ही उसके विचार में परिवर्तन आते जा रहा है यह स्वाभाविक ही है। बदलते युग के साथ खुद में भी बदलाव लाना बहुत जरूरी है लेकिन इतना भी न बदल जाये कि लोग ऊंगली उठाने लगे । हर कदम सोंच समझकर ही उठाये। दोस्ती करना […]

Read More →

पीएससी प्रारंभिक परीक्षा के अंक भी बताएं

By   2 weeks ago

छत्तीसगढ पीएससी प्रारंभिक परीक्षा के अंक जारी नहीं करता है। कट आफ माक्र्स भी नहीं बताया जाता। पास होने वालों का सिर्फ रोल नम्बर जारी करता है। आरक्षण के नियमानुसार रैंक व कट आफ जारी किया जाना चाहिए ताकि परीक्षार्थी अपना उचित मूल्यांकन कर सकें। यूपीएससी के द्वारा पीएससी प्रारंभिक परीक्षा के अंक भी जारी […]

Read More →

कभी भगवान कभी महाराज है ग्राहक

By   2 weeks ago

यह रहस्मय प्रश्र ही रहेगा कि मानव जाति ने कब और किस रूप में आर्थिक क्रियाएं आरंभ की थी? उसमे समाज बोध की भावना और विश्वास आने की आवश्यकता के कई आधारों में एक आर्थिक गतिविधि अवश्य ही रही होगी। वह जब पाषाण युग में जंगली जानवर सा जीवन यापन कर रहा था तब भी […]

Read More →

प्रेम रतन धन पायो

By   4 weeks ago

प्रेम रतन धन पायो हिन्दी काव्यधारा के स्वर्णयुग में दो स्पष्ट मार्ग प्रशस्त हुए थे। एक ज्ञानमार्ग, दो प्रेम मार्ग दोनो वस्तुत: जीवन मार्ग थे जिसमें कई संत, ऋषि, विचारक, गुरू और कवियों ने विशद चिंतन मनन किया था और लोक की भावधारा को दिशा दी थी। यही स्वर्णयुग इतिहास में भक्तिकाल है जहां भक्ति […]

Read More →

भव्य स्वागत परम्परा खत्म करने से वीआईपी संस्कृति खत्म होगी लाल बत्ती हटाने से नही

By   4 weeks ago

इन दिनों पूरे देश में ही नहीं प्रदेशों में भी वीवीआईपी की पहचान सरकारी गाडिय़ों, केंद्रीय मंत्रियों, प्रदेश की मंत्रियों सहित अन्य वाहनों में लालबत्ती की प्रथा समाप्त कर दी है ये प्रथा राज नेताओं और आम लोगों में अंतर भेद को खत्म कर स्वस्थ्य लोकतांत्रिक परम्परा के लिहाज से देश के सादगी पसंद प्रधानमंत्री […]

Read More →

Poetry View All →

मार्च.अप्रैल मई व जून

By   5 days ago

मार्च.अप्रैल मई व जून । देह तपाके औटाये खून । पानी बनें मन का शुकून । सच बिन पानी सब सून । तरूवर है हमारे जलदाता । नभ से बादल को बरसाता । भूमिगत जल को खींचे लाता । जलस्तर को सदा जो बढ़ाता । मानव में लालच समाया । पेड़ों पर अधिकार जमाया । […]

Read More →

जीवन एक युद्ध है

By   5 days ago

जीवन एक युद्ध है मैं हर रोज लड़ा करता हूं मातृभूमि के लिए मैं दीपदान करता हंू संघर्षों के इस जीवन में क्या थकना क्या सुस्ताना मैं मंजिलों के वास्ते चलते ही जाता हूं कुछ मिले या न मिले मुझे अपना करम करते जाना है मुसाफिर मैं मेरे देशवासियों कुछ गीत प्यार के सुनाते जाना […]

Read More →

सहारे की जरूरत

By   5 days ago

सहारे की जरूरत गुमान उनको भी पांव उठाने के लिए सहारे की जरूरत होती है जिनकी नजरों की चमक देखा है समझ है अल ए गुल सहर होते हैं कलियों से तबस्सुम आ ही जाती है न जाने उन्ही नजरों को बरसात की तरह रोते देखा है गुमान उनको भी पांव को तरसते देखा है […]

Read More →

तन्हाई

By   2 weeks ago

तन्हाई अवसर देती है जिन्दगी हमारे आसपास के बेसुमार लोगों को जानने समझने का पर हमारा अहंकार ऐसा करने नही देता वरना अरबों की जनसंख्या में भला कोई तन्हा होता इस खुदगर्जी के दौर में अनजाने में ही सही पर हम अपने लिए खुद चुन लेते हैं तन्हाई हमने यदि अहं को त्यागा होता कदम […]

Read More →

पइयां तोर परंव

By   2 weeks ago

पइयां तोर परंव महतारी के मया ल आखर म कैसे कहंव दाई तोर मया बने राहे पइयां तोर परंव लाने हस मोला दुनिया म मोर अंग अंग म तोर अधिकार हे भगवान बरोबर तय होथस तोर पूजा बिना चारोंधाम बेकार हे तोर आशीष मोर मुड़ म तो जग ला नई डरंव दाई तोर मया बने […]

Read More →

नाना की पिटारी में

By   2 weeks ago

नाना की पिटारी में बढिय़ा बढिय़ा खेल खिलौने नाना की पिटारी में आओ झूमे नाचे गाये नाना की पिटारी में छुकछुक छुकछुक रेलगाड़ी नाना की पिटारी में सैर करे हम जंगल झाड़ी नाना की पिटारी में शेर भालू हिरण चीता नाना की पिटारी में खेले कूदे नाचे गाएं नाना की पिटारी में गीत कहानी गजल […]

Read More →

मया के छंईहा

By   2 weeks ago

मया के छंईहा घाम जनावत हे सुरसुर सुरसुर गरम हवा घाम ह जनावत हे तरिया नदिया कुंआ बवली पानी हर अटावत हे अमरईया के छंईहा नईहे रुख राई कटागे डारा पतौना सबो झरगे हवा गरेरा म उड़ागे चट ले जरत हे भोंमरा घाम ह जनावत हे मुंड़ म टोपी गमछा चश्मा पहिर के ईतरावत हे […]

Read More →

आये हावे संगी जबले मोबाईल के जमाना

By   2 weeks ago

आये हावे संगी जबले मोबाईल के जमाना बंद होंगे पहुना बनके घर आना अउ जाना मोबाईल म चलत हावे सबके इहां गोठियांना खारा मिठाई बना के खाये ग पहुना के बहाना सुख दु:ख ल बांट लेवय बैठ के एक ठिकाना काम बुता के चले गोठ कैसे हे खाना कमाना सुवारथ के साथी होंगे मनखे आज […]

Read More →

Hit Counter provided by Skylight