News View All →

स्कूल प्रबंधन की दादागिरी, ले ली एंडवास में छात्र छात्राएं से जबरन स्कूल फ ीस

17

By   1 day ago

बसना ग्रामीण। निजी स्कूलों द्वारा की जा रही मनमानी एक बार फिश्र सामने आई है। बच्चो से एक महिना की एंडवास फिस वसूली जा रही है। नोडल अधिकारी ने विद्यार्थियों से एडवासं फीस न लेने का निर्देश दिया है लेकिन इसका कोई असर उक्त स्कूल में नही हो रहा है। मामला है कि संत अन्ना […]

Read More →

नि:शुल्क कैंप में 400 मरीजों की हुई जांच

By   1 day ago

बसना। स्थानीय अग्रवाल नर्सिंग होम में नि:शुल्क स्वास्थ्य शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें 400 से भी अधिक मरीजों की जांच की गई। उन्हे जांच में आवश्यकतानुसार नि:शुल्क सोनाग्राफी, एक्सरे, खून और इसीजी किया गया। बाद में नि:शुल्क दवाई भी दी गई। 4 मरीजों का नि:शुल्क आपरेशन भी किया गया। इस शिविर में शिशुरोग विशेषज्ञ […]

Read More →

प्रमोद बने सरपंच संघ अध्यक्ष

5

By   1 day ago

बागबाहरा। जनपद कार्यालय में पिछले दिनों सरपंच संघ की बैठक में नए अध्यक्ष का भी चयन किया गया जिसमें सर्वसम्मति से भीमखोज के सरपंच प्रमोद चंद्राकर को अध्यक्ष चुना गया। ज्ञात हो कि प्रमोद चंद्राकर पिछले कार्यकाल में भी अध्यक्ष रह चुके हैं। सभी सरपंचों ने उन पर पुन: विश्वास व्यक्त किया। संघ के अध्यक्ष […]

Read More →

सालर में ग्रामीणो ने चंदा कर बनाया पचरी

14

By   1 day ago

सारंगढ़। पूरे देश में विकास के नारे के दम पर सरकार बनाने वाली भाजपा के नेता केन्द्र और राज्य मे काबिज है किन्तु जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी पर भाजपा ने ऐसे जनप्रतिनिधि को पूरे जिला का ग्रामीण क्षेत्र का मुखिया बना दिया है जो स्वयं अपने गांव का पचरी तक को स्वीकृत नही करा […]

Read More →

जल-संसाधन एसडीओ बिना छुटटी मुख्यालय से गायब ऐसे अधिकारी हो हटाने की उठी मांग

24

By   1 day ago

सारंगढ़। छत्तीसगढ़ में सरकार का आदेश है कि हर विभाग के अधिकारी अपने मुख्यालय में रहें ताकि आम नागरिकों को काम-काज में सुविधा हो परन्तु स्थानीय जल संसाधन विभाग के एसडीओ एसएल द्विवेदी अपने मुख्यालय में नहीं रहते यह स्थिति 6 माह पूर्व पदस्थ होने से अब तक बनी हुई है। ये कभी भी कार्यालय […]

Read More →

नगर पालिका क्षेत्र में धड़ल्ले से हो रहा है खुले में शौच सीएम ने ओडीएफ जिला बनाने दिया 10 माह का वक्त

15

By   1 day ago

सारंगढ़। पूरे देश मे चल रहे स्वच्छता अभियान और खुले में शौच मुक्त का अभियान के ठीक विपरित नगर में धड़ल्ले से खुले मे शौच किया जा रहा है। सार्वजनिक स्थानों, तालाबों के किनारे खुले में शौच को कोई नही रोक पा रहा है ऐसे में कैसे बनेगा ओडीएफ नगर। कुछ गांवों के किनारे सडक़ […]

Read More →

नोटबंदी का असर सिर्फ गरीबों पर दिखा कांग्रेस की जनवेदना शिविर पर लगा आरोप

23

By   1 day ago

पिथौरा नगर। कांग्रेस द्वारा नोटबंदी के खिलाफ जनवेदना शिविर लगाया गया। जिसमें प्रदेश संयोजक अनिल शर्मा, प्रदेश समन्वयक धनेन्द्र साहू , विधायक सत्यनारायण शर्मा, डॉ शिव डहरिया, देवेन्द्र बहादूर सिंह, अग्नि चन्द्राकर, महेन्द्र चन्द्राकर, भवानी शुक्ला, और उषा पटेल शामिल हुए। अनिल शर्मा ने कहा कि नोटबंदी सिर्फ गरीब और किसानों को लाइन में लगाने […]

Read More →

पानी का अंधाधुंध दोहन हमें अंधेरे में ले जा रहा कल के लिए जल नही बचेगा तो हम क्या करेंगे

25

By   1 day ago

पिथौरा नगर। क्षेत्र में रबी फ सल हेतु लगातार 24 घण्टे चल रहे पानी पम्पों के चलते क्षेत्र में अभी से पेयजल और बिजली का संकट गहराता जा रहा है। ज्ञात हो की इस वर्ष शासकीय समझाइस के बाद भी क्षेत्र में कोई 6 हजार हेक्टेयर में धान की फसल ले रहे है। जिसके लिए […]

Read More →

Editorial View All →

खोदा पहाड़ निकली चूहिया

By   3 days ago

अभी देश की संघीय व प्रांतीय राजधानियों में एक विशेष प्रकार का सत्र चल रहा है। जिसमें राष्ट्र और राज्यों के सुचारू आर्थिक प्रबंधन के लिए विभिन्न योजनाओं व मदों में गंभीर आर्थिक चिन्तन मनन और लाभ हानि का लेखा जोखा जारी है। इन बड़ी दिमागी कार्रवाहियों को वित्त सत्र(बजट सेशन) में समाहित किया जाता […]

Read More →

किस किस पर करें भरोसा

By   3 days ago

आज समूचा देश विज्ञापन के मकड़ जाल में उलझ कर रह गया है। क्या सही क्या गलत जांचने की फूर्सत कहां? बस विज्ञापन पर विश्वास कर उपयोग करते चले जाते हैं। जब तक विज्ञापन के सच झूठ का पता चलता है तब तक बहुत विलम्ब हो चुका होता है फिर हमारा उदासिन रवैया उस विज्ञापनदाता […]

Read More →

भारतीय समाज की अनोखी जातिप्रथा

By   2 weeks ago

कभी भारत के बौद्धिक क्षेत्र में यह लोकोक्ति बहुचर्चित हुआ करती थी कि आज कलकत्ता जो सोचता है उसे कल बंगाल और परसों पूरा देश सोचता है। उक्त उक्ति ज्ञान विज्ञान कला और साहित्य के संदर्भ में खरी उतरती थी। बहुत पहले धर्म शास्त्र अध्यात्म और दर्शन व ज्योतिष के क्षेत्र में काशी को विद्या […]

Read More →

कई पालियों की चट्टी सराईपाली

By   3 weeks ago

यदि किसी पुराने शासकीय अभिलेख में इस पाली या गांव का नामोल्लेख मिलता है तो वह अभिलेख पराधीन देश का है जो डाक व तार विभाग की प्राचीनतम विवरणिका(डायरेक्टरी) है जिसके अनुसार सीपी(सेन्ट्रल प्राविन्स) के रायपुर डिवीजन में जीई(ग्रेट ईस्टर्न) रोड के पूर्वी सीमांत पर स्थित है। जहां से पूर्व की ओर सम्बलपुर डिवीजन में […]

Read More →

मेरा देश बदल रहा है

By   3 weeks ago

बदलाव प्रकृति का नियम है जिसमें दिन रात मौसम के साथ मानव प्रवृति प्रकृति भी शामिल है। अब देखा न जहां कुछ साल पहले गड्ढे थे अब समतल मैदान बन गए सडक़ बन गए ऐसे ही अनगिनत परिवर्तन आप को नजर आएगा। परिवर्तन वह महत्पूर्ण है जो हमारी सुविधा के अनुसार हो, परिवर्तन वहीं महत्वपूर्ण […]

Read More →

हमाम में सभी नंगे फिर डर कैसा

By   4 weeks ago

26 जनवरी हम सब भारतवासियों के लिए गर्व महसूस करने का दिन है। इसी दिन सन 1950 को यह सार्वभौम सम्पन्न गणराज्य बना। इस दिन को हम गणतंत्र दिवस के रूप में मनाते हैं। इस दिन देश का संविधान लागू हुआ यह हम सब जानते हैं इसका अर्थ क्या है हम सब जानते हैं लेकिन […]

Read More →

छत्तीसगढिय़ा सब ले बढिय़ा

By   4 weeks ago

गौतम बुद्ध की असीम कृपा से सिंचित विराट हिमालय की सुरभ्य व शांत घाटियों में ऐसे जन समूह की बसाहट है जो शेष विश्व की दृष्टि में अकल्पनीय किन्तु अनुकरणीय है। यह जन समूह भूगोल में दो पड़ोसी देश हैं। एक है विश्व में सबसे अधिक सुखी देश भूटान जिसके पड़ोस में सिक्किम है जो […]

Read More →

समय बड़ा बलवान है

By   1 month ago

घर नगर या देश कहने सुनने भर से सहज ही जेहन में एक भूखंड का अक्स उभर जाता है पर उसके बारे में ख्यात या विख्यात तभी पता चलता है जब हमे वहां निवासरत लोगों के आचार व्यवहार प्रकृति के साथ साथ व्यवस्थापिका, न्यायपालिका और कार्यपालिका के आचार व्यवहार के बारे में जानकारी होती है। […]

Read More →

Poetry View All →

तुम्हारे आगमन में

By   3 days ago

तुम्हारे आगमन में तुम्हारे आगमन में महक उठता है जहां अब तक तुम हो कहां ह्रदय आंगन है छूना मोर उडऩे को बेचैन है कोयल गीत गाने को और कितने भ्रमर उड़ते दिल किसी के चुराने को हवाएं मधुर मधुर गीत गाने को उड़ते फिरते मधुपाश में कि कब आएगा चित्तचोर हमें ले जाने की […]

Read More →

दर्दपान

By   3 days ago

प्रेम है मन की आरती प्रेम की दर्द पान कराती कितना सारा इंतजार कराती एक पल में अनंत बार याद आती वो मेरे मन की आरती प्रेम है मन की आरती। नही पूजते कोई मूर्ति प्रेमी होते हैं मन के पुजारी नही होते ये मन के शिकारी ये हैं प्रीत मांगने वाले भिखारी ये यादें […]

Read More →

दर्दपान

By   3 days ago

प्रेम है मन की आरती प्रेम की दर्द पान कराती कितना सारा इंतजार कराती एक पल में अनंत बार याद आती वो मेरे मन की आरती प्रेम है मन की आरती। नही पूजते कोई मूर्ति प्रेमी होते हैं मन के पुजारी नही होते ये मन के शिकारी ये हैं प्रीत मांगने वाले भिखारी ये यादें […]

Read More →

अब के बसंत कुछ ऐसा कर जा

By   2 weeks ago

अब के बसंत कुछ ऐसा कर जा अब के बसंत कुछ ऐसा कर जा नैतिकता के हो रहे पतझड़ को प्रेम का बहार दे जा कोई किसी के लिये ना हो बेरहम खून खराबे से जाये ना कोई सहम बेटा मां बाप के लिये अभिशाप ना बन जाये असहाय मां बाप का वह सहारा बन […]

Read More →

सर्जिकल स्ट्राइक

By   2 weeks ago

सर्जिकल स्ट्राइक गुड लक हुई गरीबों की लाइफ जब हुआ सर्जिकल स्ट्राइक अमीरों का हुआ जीना टाइट कालाधन हुआ हाईलाइट आतंकवाद नक्सलवाद की गतिविधि हुआ स्टॉप हमारे देश में हो रहा कालाधन साफ मोदी जी कह रहे हैं कर दो मुझे माफ अभी थोड़ी सी परेशानी उठा रहे हैं आप इसका तुरंत नही मगर बाद […]

Read More →

आओ श्रवण कुमार

By   2 weeks ago

आओ श्रवण कुमार भारत मां को इंतजार आयेगा श्रवण कुमार मां-बाप की सेवा होगी उसकी पूजा दुश्मनों से लड़ेगा जन-जन को सुख देगा यही है बहुत गद्दार करेगा सबका उद्धार समाज एक बनाएगा भाई-चारा लाएगा प्रकृति के लिए जीएगा उसकी रक्षा करेगा मां की बात समझेगा परिवार को जोड़ के रखेगा कब आओगे श्रवण कुमार […]

Read More →

मां सरस्वती वंदना

By   3 weeks ago

मां सरस्वती वंदना जय जय विद्या वरदायिनी बुद्धि प्रदा स्वेतवर्णी ज्ञान प्रज्ञा प्रदायिनी वीणापाणी वीणावादिनी जय जय मां तू सरस्वती मंगलमयी मंगलकरणी गीता वेद की तू माता सर्वविद्या प्रदायिनी जय जय मां तू पद्मासिनी जगत मां तू जग कल्याणी वरदे वरदे वरदायिनी मंगल की तू मंगलकरणी जय जय स्वेतवर्णी जय जय शांत स्वरूपिणी मन वचन […]

Read More →

बसंत के बहार

By   3 weeks ago

बसंत के बहार सुघ्घर ममहावत हे आमा के मऊर जेमे बोले कोयलिया कुहूर कुहूर गावत हे कोयली अऊ नाचत हे मोर सुघ्घर बगीचा के फूल देखके ओरे ओर झूम झूम के गावत हे नोनी मन गाना गाना के राग में टूरा ल देवत ताना बच्छर भर होगे हे देखे नइहों तोला कहां आथस जाथस बतावस […]

Read More →

Hit Counter provided by Skylight