News View All →

खटखटी रोड़ के गढ्ढ़े खटकते है ग्रामीणों को

15 (2)

By   3 days ago

पढऩे वाली बच्चे और बालिकाएं सैकड़ों की संख्या मे प्रतिदिन गुजरती है बसना(नगर)। खटखटी की ओर जाने वाला मार्ग इस अंचल से गुजरने वाले ग्रामीणों, विद्यार्थियों के लिए परेशानी का कारण बन गया है। यह सड़क आरंभ मे नगरपंचायत की उसके बाद खटखटी गांव तक पडऩे वाली पुलियां तक पीडब्ल्यूडी की उसके बाद प्रधान मंत्री […]

Read More →

चंदन का झाड़ अंचल मे

11

By   3 days ago

सराईपाली। इस अंचल मे चंदन का झाड़ शिशुपाल तराई के मल्दामाल गांव एक व्यक्ति के घर मे है, समझा जाता है कि उनके घर का एक मात्र चंदन का झाड़ उनके घर मे है। मल्दामाल के निराकार भोई के घर मे वर्षों पूर्व आगन मे चंदन का झाड़ हो गया था, उसके बाद वे उसे […]

Read More →

शीत मे बसंत के आगमन की झलक

14

By   3 days ago

पिथौरा। अक्सर बसंत ऋतु में आम के वृक्षो में बौर आ जाते है पर इन दिनों नगर के अधिकांश घरो में स्थित आम वृक्षो में आम का बौर खास नजर आ रहे है।

Read More →

सड़क जर्जर धूल भरी

10

By   3 days ago

सराईपाली। ग्रामीण क्षेत्रेां की सड़कें कितनी खराब है यह अपने आप मे एक बड़ी समस्या है, कुछ सड़कें बनी नहीं है कुछ सड़कें बनी है तो गढ्ढ़े बहुत हो गए है। इस अंचल की कुटेला, इच्छापुर, केना, जलगढ़, डोंगीझरन, मानपाली, बस्तीपाली से बागद्वारी तक सड़क धूल मिट्टी की पगडंडी से लगती है, इस पर चलने […]

Read More →

हार या जीत तो होगा ही पहले खेल भावना सर्वोपरी है

By   3 days ago

सराईपाली। शासकीय पूर्व माध्यमिक शाला रूढ़ा मे आयोजित बाल क्रीड़ा प्रतियोगिता के उद्घाटन अवसर पर कार्यक्रम के अध्यक्ष प्रधान पाठक उपेद्र बुड़ेक ने कहा कि हम सभी खेलने आए हैं इसका आशय है कि हम जीतने भी आए हैं। लेकिन किसी कारण वस हार जाएॅ तो हार को भी स्वीकारना होगा और खेल भावना को […]

Read More →

संकुल स्तरीय क्र ीड़ा प्रतियोगिता संपन्न

08

By   3 days ago

सराईपाली। संकुल स्तरीय दो दिवसीय बाल क्रीड़ा प्रतियोगिता का आयोजन संकुल केंद्र लांती मे आयोजित की गई। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संकुल समन्वयक गौतम पटेल, अध्यक्षता प्रधान पाठक चंद्रकुमार पटेल, विशिष्ट अतिथि लिंगराज प्रधान उपस्थित थे। प्रतियोगिता मे 7 प्राथमिक व 3 माध्यमिक शाला के विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया, इस अवसर पर विभिन्न खेलों मे […]

Read More →

यात्रियों की सुरक्षा दांव पर

02

By   3 days ago

सराईपाली। यातायात के साधन समय के साथ विक सित हुए है मगर गांव के लोगों को आज भी यातायात के लिए खतरों से खेलकर सफर करना पड़ता है क्योंकि साधन सीमित होते है और यात्रा करना मजबूरी। गांव की यात्रा करने वाले ग्रामीणों को किस तरह यात्रा करना पड़ता है इसका प्रत्यक्ष उदाहरण पिछले ग्राम […]

Read More →

स्काउट गाइड द्वितीय सौपान का विशाल शिविर ज्वाल संपन्न

01

By   3 days ago

सराईपाली। स्काउट गाइड संघ का द्वितीय सौपान का शिविर ज्वाल जोगनीपाली मे संपन्न हुआ, शिविर ज्वाल के मुख्य अतिथि जिला स्काउट संघ के अध्यक्ष हेतराम साहू थे। उन्होंने कहा कि स्काउट सेवा व समपर्ण का दूसरा नाम है, स्काउट के माध्यम से शारीरिक मानसिक, नैतिक शिक्षा दी जाती है जो हमारे जीवन मे काम आती […]

Read More →

Editorial View All →

सर्द मौसम मे चुनावी गर्मी

By   3 days ago

इन दिनों छत्तीसगढ़ के लोगों का मिजाज बेहद गर्म है, हो भी क्यों नहीं याहं चुनावी बिगुल जो बज गया है। राजनीतिक पार्टी का हर कार्यकर्ता अपने आपको योग्य बताने मे जुटा हुआ है और पार्टी दफतरों मे समर्थकों की भीड़ जुटाने लगा है इस प्रयास मे पसीने छूट रहे है तो ठंड की क्या […]

Read More →

किसानों के साथ ही अन्याय क्येां

By   1 week ago

आज तक सामान का मूल्य हो या अधिकारी कर्मचारी का वेतन या विधायक सांसदों का वेतन भता बढ़ा ही बढ़ा है फिर किसानों के साथ ऐसा भेदभाव क्यों। आज धान उत्पादन बढ़ाने के लिए विभिन्न प्रकार के संसाधन आ गए है जिसके जरिए किसान प्रति एकड़ 25 क्ंिवटल धान उत्पादन करने लगे है। कहा तो […]

Read More →

सफलता प्राप्ति का साधन -समय का सदुपयोग

By   1 week ago

आज की दौड़ती भागती जिन्दगी मे व्यक्ति व्यर्थ की भागमभाग मे व्यस्त है, हड़बडाहट है, उताबलापन है। इन सबसे हटकर व्यक्ति को ऐसे बातों पर ध्यान रखनी चाहिए जो कि उसकी सफलताओं के लिए आवश्यक है। व्यक्ति की सफलता असफलता के पीछे धैर्य का हाथ होता है, समस्त आंनद और शक्तियों का मूल धैर्य होता […]

Read More →

जीवन मे संस्·ारों ·ी भूमि·ा

By   2 weeks ago

मानव समाज मे हिन्दू धर्म ·े अंतर्गत सोलह संस्·ारों ·ा विधान है, शास्त्रों ·े अनुसार इन संस्·ारों द्वारा अन्त:·रण सुसंस्·ृत हेाता है। यह ठी· है ·ि आज व्यवहारि· जीवन मे ऐसी अने· ·ठिनाईयां है जिन·े ·ारण पूरे सोलह संस्·ारों ·ा संपन्न होना संभव नहीं फिर भी इन सोलह संस्·ारों मे से ·ुछ संस्·ार जैसे गर्भाधान, […]

Read More →

मोदी की बातें देश के लिए कितने सार्थक

By   4 weeks ago

चीन, जापान, अमेरिका सब जगह मोदी का भव्य स्वागत वहां के राष्ट्रभाषाओं द्वारा मोदी की प्रशंसा की गई जैसा स्वागत मोदी का हो रहा था वहां के राजनीतिज्ञ भी आश्चर्य चकित थे। उनको कहना पड़ा कि ऐसा भव्य स्वागत किसी का भी कहीं नहीं देखा। अमेरिका का न्यूयार्क का मेदिसन स्क्वायर हो या सिडनी का […]

Read More →

भारतीय संस्कृति के विकास का मूल मंत्र वैदिक संस्कृति

By   1 month ago

विश्व के सांस्कृतिक विकास पर दृष्टिपात करने से यह ज्ञात होता है कि बहुमुखी विकसित संस्कृतियों के मूल मे वैदिक कालीन संस्कृतियों का अपना विशेष स्थान है। वैदिक संस्कृति सभी संस्कृतियो की अपेक्षा प्राचीन है। आर्यो के द्वारा वैदिक संस्कृति के द्वारा ही संपूर्ण विश्व को अपनी कला कौशल का ज्ञान कराया गया जिसे न […]

Read More →

सजा का दिखावा कब तक होगा

By   1 month ago

एक बार की गई गलती को क्षमा योग्य माना जा सकता है लेकिन बार बार की जाने वाली गलती को अपराध की श्रेणी मे रखा जाता है। जानबुझकर या फिर लापरवाही की ओर ही इंगित करता है यह प्रदेश सरकार की प्रशासनिक कमजोरी को दर्शाता है। हम यह बात नसबंदी आपरेशन के दौरान 11 महिलाओं […]

Read More →

यह कै सा न्याय तंत्र है आदेश तो होते हैं पर पालन नहीं

By   1 month ago

हमारे प्रदेश मे राजस्व व्यवस्था कै सी है इसका उदाहरण पिछले दिनों कोमाखान लुकूपाली के एक मामले से सामने आया। एक मामला जो 2009 मे अवैध कब्जा घोषित हो गया उसकी अपील भी खारिज हो गई फिर भी 5 वर्षों तक उस आदेश का पालन नहीं हो सका और न ही अभी तक हुआ है, […]

Read More →

Poetry View All →

अजन्मी कन्या की ब्यथा

By   1 week ago

कोख मे पल रही अजन्मी कन्या माँ की नजरों से देख अचरज नजारा ढोल नगाड़े गीत फटाके बधाई बधाई की लोग गाते नारे। सहसा ढहा दी गई उम्मीदों की इमारतें करती रही विलापें निकलती गई चिखें मुझे भी रहना है तुम्हारे संग सुख दुख मे मेरी आखें भर आएगी नन्ही सी जान रिस्तों मे अव्वल […]

Read More →

होते हैं कैसे कैसे बाबा

By   1 week ago

अजीब अजीब बाबा होते है अजीब होता है उनका मायाजाल अजीब अजीब श्रद्धालु होते है श्रद्धालुओं के चढ़ावे से बाबा होते है मालामाल। अनमोल वाणी मीठे स्वर से बाबा अपने भक्तों मे छा जाते है वैज्ञानिक संसाधनों से चमत्कार दिखा कर वे चमत्कारी बाबा कहलाते है। पहले के ऋषि मुनि तपस्वपी योगी रहते थे हिमालय […]

Read More →

बदनाम हो गई

By   1 week ago

सुबह चले थे किस पड़ाव से चलते चलते शाम हो गई माया की बस्ती मे बस कर ये आत्मा बदनाम हो गई। हमक ो मिला अनमोल काया मिट्टी के मोल हो गई हरि नाम को छोड़ कर बन्दे चारी चुगली मे खो गई। दुसरे की सुख थोड़ा ना भाया अपना दुखड़ा रो गई धर्म कर्म […]

Read More →

सरपंच

By   2 weeks ago

जनता मुझ·ो वोट देगी मैं सरपंच बन जाऊंगा ·ाम भले ·ुछ न हो पर मैं नाम खूब ·माऊं गा बरसात मे होगी रोजगार गारंटी मूलभूत राशि उडाऊंगा स्·ूल अस्पताल भाड़ मे जाए शमशानघाट जरूर बनवाऊंगा गली मरम्मत ·भी न होगी हर गली मे दारू भट्ठी खेलवाऊंगा ए· बनेगी ·ांजी हाऊस उसमें पंचों ·ो सप्ताह मे […]

Read More →

किसान

By   4 weeks ago

किसान भाई मैं किसान बोल रहा हूं अपने दुखों की परत खोल रहा हूं। कोई नहीं आज मेरा इस देश मे अपने ही बैठे हैं दुश्मन के वेश मे। समस्याओं के थपेड़े से पीपल पत्ते सा डोल रहा हूं भाई मैं किसान बोल रहा हूं। रहता मैं गांव मे किसानी है दांव मे कुछ और […]

Read More →

माहिया

By   1 month ago

बूंदों की पायल बजती, सुधियों की फंदीस, जलती दर्द जगाती।। गाते झूमते बरसते, तुम आ गए पहले, सावन है तुम बता गए।। सपने सज सकते मिल जुल के सजनी आओ अब सजा ले ।। खुलकर बातें कर ले प्यार की हवा बह रही दिल की बातें कर लें।। नजर से नजर मिलाओ कुछ भी मत […]

Read More →

हाय रे महंगाई

By   1 month ago

सब्बो जिनीस महंगा होगे जिनगी भर होगे करलाई मेहनत के फर नइये जादा कइसे म होही भरपाई। महंगाई म नई पुरै कछु चाहे कतको कमाए ददा दाई का तैं खाबे आनी बानी के नाश्ता म चलत हे मुर्रा लाई। रोज मांगत हे पढ़े बर पईसा घर के भतीजा अऊ भाई कइसे पुरही तनखा हर घलो […]

Read More →

गजल

By   2 months ago

नयनों मे आंसू छल·े सावन में, ढिबरी यादों ·ी जलते सावन में।। ·ामना ·े फलने फूलने ·े दिन है, संयम ·ा तप हमारा फले सावन में ।। तुमसे दूर रहूं मुझे मंजूर नहीं, बूंदों ·ी पायल बजते सावन मे।। ·िस ·दर छाए सुहाने सांवले बादल, मन प्यासा चात· तरसे सावन मे ।। वि·ल प्यार ·ो […]

Read More →

Hit Counter provided by Skylight